• ~ Mark Twain

    ~ Mark Twain

    "Loyalty to country ALWAYS. Loyalty to government, when it deserves it."
  • smg

    सोशल मीडिया का गुंडाराज किसे नहीं दिखता है ?

    image3

    मेरे नाम से समय समय पर सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाया जाते रहता है। इस मुल्क की संस्थाएँ इतनी फटीचर हो चुकी है आप उनसे संपर्क भी नहीं कर सकते कि कौन फैला रहा है और उसके ख़िलाफ़ कार्रवाई होनी चाहिए। ट्वीटर और फेसबुक पर नक़ली आईडी से मेरे नाम का इस्तमाल किया जा रहा है। तस्वीर लगाकर मेरे नाम से अनाप शनाप बातें कही जा रही है। ऑनलाइन दुनिया के गुंडाराज से किसे दिक्कत नहीं हो रही है? क्या ये वही हैं जिन्हें जंगलराज से दिक्कत हो रही है? ये कैसा घटिया समाज है जो मुझे अकेला छोड़ इस गुंडागर्दी को सह रहा है। मैं गिन रहा हूँ। देख रहा हूँ।

    लोग इतने मूर्ख और बदहवास हो चुके हैं कि इसे आगे भी बढ़ाते हैं और हिंसक टिप्पणियाँ भी करते हैं। इससे पहले याकूब की फाँसी के समय चलाया गया कि मैंने माफी की याचिका पर साइन किया था। तब मूर्खों को सफाई देते देते थक गया कि इस पर मेरा साइन नहीं है। पूरी लिस्ट फ़र्ज़ी है। अब वही मूर्ख एक और पोस्ट फार्वर्ड कर रहे हैं। इसमें गौ माँस से संबंधित कुछ बात लिखी है। सोशल मीडिया पर मेरे नक़ली ट्वीट के ज़रिये इसे फैलाया जा रहा है। इस पर लिखा है कि मेरी पत्रकारिता पर थूकना चाहिए। मैं देख रहा हूँ लोग दंगाइयों पर थूकने की बात नहीं लिखते। दंगाइयों को गले लगाने के लिए तरह तरह की दलीलें खोज रहे हैं। लोग हत्यारों जातिवादियों पर नहीं थूक रहे हैं। मुझपर थूकने की पोस्ट पर टिप्पणी कर रहे हैं। वाह रे जागरूक लोग। देख रहा हूँ उन लोगों को भी जो ऐसी राजनीतिक तंत्र का समर्थन कर रहे हैं। बुज़दिल समाज निर्लज्जता को धर्म और हिंसा की दलीलों से ढंकता है।

    image4

    अगर आप अपनी आँख न भी फोड़ें तो देख सकते हैं कि इस आईडी में रवीश ग़लत तरीके से लिखा है। वैसे मैंने ट्वीटर पर कई दिनों से लिखना छोड़ दिया है। मेरा आईडी है @ravishndtv लेकिन बेहद चतुराई से @ravihsndtv तो कभी @raviishndtv की आईडी से अफवाह फैलाते हैं। फोटोशाप के ज़रिये भी मेरे नाम से अफ़वाहें फैलाई जा रही हैं। फालतू और बेहूदे किस्म के लोग इस पर यक़ीन कर रहे हैं और मेरे बारे में अनाप शनाप लिख रहे हैं। मैंने अभी फेसबुक का खाता भी बंद कर दिया है। वहाँ भी नक़ली पेज बन रहे हैं। मेरा नाम लेकर सामाजिक तनाव भड़काने का षड्यंत्र हो रहा है। इन्हें पता है कि बहुत से लोग मूर्ख हैं और बेहूदे भी इसलिए उनकी बातों में आ जायेंगे। ऐसा मत होने दीजिये।

    Twitter-Abuse

    अगर हिन्दुत्व की इतनी पहरेदारी करनी है तो मेरे नाम से अफ़वाहें फैलाने की कोई जरूरत नहीं है। ये फैलाइये कि कितने लोगों को नौकरी मिल गई है। कितनों को मिलने वाली है। कितनों को रेल यात्रा के दौरान टिकट मिलने लगे हैं। कितने स्कूलों को विश्व स्तरीय बनाया जा चुका है। कितने अस्पतालों में राम राज्य आ चुका है। कोई भी हिन्दू हिन्दू होने के बाद भी ये सब तो चाहेगा ही लेकिन बात क्या है कि इन सब बातों की चर्चा नहीं हो रही। गौमांस को लेकर मेरे नाम से अफवाह फैलाने वाले कौन लोग हैं जो यह सब कर रहे हैं। कितनी बार सफाई दूँगा। कहाँ तक दूँगा। यह एक तंत्र है। जो आपको वहशी भीड़ में बदल रहा है । मैं देख रहा हूँ कि आप भीड़ बन रहे हैं।

    • Abhinav

      Kitno ko jawab denge. rehne dijiye. jab log hi badhavas bheer ho chale hai kya kehne.

    • Ashwani

      we need a central agency to control these media sites, the more freedom we have the more negative people are there to do negative marketing