• ~ Mark Twain

    ~ Mark Twain

    "Loyalty to country "ALWAYS". Loyalty to government, when it deserves it."
  • hindieng

    मर्डन अंग्रेज़ी, मर्डर्ड हिन्दी : चेहरे समाज के

    आप हिन्दी ग़लत बोलो कोई कुछ नहीं बोलेगा पर अंग्रेज़ी भाषा का ऐसा चलन है कि आप दो लाईने ग़लत बोल के तो देखें । आज अंग्रेज़ी ही मापदंड है आपके पढ़े लिखे मर्डन होने का ।

    Reference: ये शब्द ‘मर्डन’ पटना के एक “मर्डन टेलर्ज” नाम के दुकान के बोर्ड से प्रेरित है ।

    मर्डनाइजेसन के दो चेहरे

    “Basically I am in train, here the network is not coming, and hence your bhoice is cutting.”

    उत्सुकता थी या नहीं पता नहीं, मेरे मुंह से अनायास ही निकल गया, ” आप कहाँ जा रहे हैं।” और जवाब आया, ” टू दी कैपिटल।”

    ये मेरी एसी बोगी की पहली यात्रा थी।  मैंने महसूस किया यहाँ हिंदी भाषा का कोई स्थान नहीं है। हिंदी बोले गए तो आपको स्लीपर की निग़ाह से देखा जायेगा । 

    मेरे एक मित्र हैं जो नितीश कुमार के बहुत बड़े प्रशंसक हैं और अंग्रेजी भाषा के उससे भी बड़े । बताने की जरुरत नहीं कि वो कैसी अंग्रेजी बोलते हैं । एक बार मैंने उनसे हिंदी में नितीश कुमार के बारे में बोलने बोला । पहले ही शब्द ने मेरे होश उड़ा दिए । माननीय की जगह उन्होंने स्वर्गीय कह दिया । वो हिन्दी भाषी क्षेत्र से आते हैं इसलिए ये कथन हास्य रस का न होकर विभत्स का लगता है । 

    खैर छोड़िये, वापस एसी बोगी में आते हैं । इन बोगियों में मुझे हमेशा सज्जन लोग ही मिले हैं । भाषा ऐसी कि शहद टपक रहा हो । प्रेम का वातावरण, माफ़ कीजिये लव का एनवायरनमेंट रहता है । एक बार ऐसे ही एक सज्जन की भाषा की मधुरता पर अचंभित था और यही सोचते सोचते सो गया । तभी भगदड़ की आवाज से नींद खुली । ट्रेन आसनसोल में रुकी थी और भागते हुए एक बच्चा पकड़ा गया था । ये सज्जन जोथोड़ी देर पहले मुझे एप्पल खिला रहे थे अभी उसे गालियां खिला रहे थे । नींद में आँख चार बार रगड़ा कि ये वो नहीं हैं, पर ये वही थे । भीड़ में एक । इन्साफ करने वाली भीड़ । बच्चे के मुंह से टपक रहा था इन्साफ । 

    मुझे अचानक से वो भीड़ याद आती है जो मोमबत्ती लेकर कभी जेसिका तो कभी नीरज ग्रोवर के लिए इन्साफ मांगती है । दोनों भीड़ एक जैसी लगती है मुझे, दोनों में गुस्सा है । पर एक गुस्सा बड़े लोगों (समाज के परिप्रेक्ष्य में बड़े लोग) पर है, इसलिए मोमबत्तियां जलाई जाती हैं । वहाँ लाठी खाने का भी डर है और दिखावा भी । ये जो मेरे सामने है, ये गुस्सा निम्न वर्ग पर है । यहाँ पुलिस साथ है । वो भी इन्साफ की तलाश में हैं इसकी चमड़ियों से । डर यहाँ नहीं है । 

    मेरे पिताजी कहते हैं कि मध्यम एवं उच्च वर्ग के व्यक्ति चाहे जिस भी उम्र के हो, निम्न वर्ग (घर के नौकर, रिक्शा वाले) को तुम कहकर ही पुकारते हैं । यहाँ उम्र नहीं इज्ज़त का आधार वर्ग है । वर्ग का आधार कौन तय करता है ये मुझसे मत पूछियेगा ।

    मैं इस भीड़ को देखता हूँ । रोकने की हिम्मत मुझमें कहाँ । बस ट्रेन के जल्दी खुलने की सोचता हूँ । ट्रेन खुलती है और मैं इस भीड़ का हिस्सा बन अन्दर आ जाता हूँ । अभी भी उसकी बातें हो रही है । दिन भर अंग्रेजी झाड़ने वाले अभी उसके परिवार को हिंदी में याद कर रहे थे । मेरे चारो तरफ दो चेहरों में सने पुतले हैं । मैं भी उन जैसा ही खुद को महसूस करता हूँ । 

    सुबह समय पर मेरा स्टेशन आ जाता है । मैं अपने शहर को उसकी ख़ुशबू से पहचानता हूँ । इस गंध से आप आश्वस्त हो सकते हैं कि यहाँ पानी की कोई कमी नहीं । मेरा तो एसी का ख़ुमार यहीं उतर जाता है । पर ये वापस उसी मोड में चले गए हैं । मेरे बगल से शिट शिट करते प्लेटफार्म पर थूकते निकल जाते हैं । मैं इनके थूक को देखता हूँ, बग़ल में खख़ार भी है । कोई अंतर नहीं दिखता मुझे । मतभेद समाप्त हो रहे हैं । खख़ार का मर्डनाइजेसन हो गया है । 

                                                      **************

    गली से एक सज्जन दीवार पर थूकते हुए निकल जाते है । मकानमालिक भभुआते हुए बाहर निकल के चिल्लाता है, “साले दिखता नहीं यहाँ लिखा है, DO NOT SPLIT. (Read Spit) “
    सज्जन घूम कर जवाब देते है, ” अगर इतना ही पढ़ा लिखा होता तो रोड पर थूकता ।

                                                       **************

    Innocent? Is that supposed to be funny? A woman… so ugly on the inside she couldn’t bear to go on living if she couldn’t be beautiful on the outside ~ From the movie “Se7en”

    • saket

      mujh pe comment mat kigiye aur apni hindi pe jyada focus kigiye.
      mana ki english sorry hinglish ka main achchha waqta nhi hoon aur dil se kabhi chahta bhi nhi hoon ki hinglish me expt banoo.
      bolna ek kala hai isske liye koi grammar ,syntax nhi body language aur aankhon se samajhiye.
      hindi divas saptah ki hardik badhai.