• ~ Mark Twain

    ~ Mark Twain

    "Loyalty to country ALWAYS. Loyalty to government, when it deserves it."
  • nature

    मैं कहता हूँ

    मैं तुझसे कहता हूँ 
    जो तू है तो , शबाब है दिन 
    खिला खड़ा है ये 
    देखो लाजवाब है दिन !

    बड़ी मुद्दत के बाद निकली है 
    घर से तू अपने 
    आज इसी शहेर का है ये दिन ?
    या है शराब ये दिन !

    न पहरों में बिठा के रख्खो 
    अब तो छोड़ो मुझे 
    नज़र से देखूं उसे 
    जिसने दिया सवाँर ये दिन !

    कोई कहता है आफताब है 
    महताब है दिन 
    कोई कहता तेरे हुस्न का 
    राज़दार है दिन ,

    मैं कहता हूँ ये बातें है सारी 
    झूठी जानो 
    सच तो है ये के 
    तेरे हुस्न का तलबगार है दिन 
    तलबगार है दिन …

    • Harsh Raghubanshi

      nice one :)