• ~ Mark Twain

    ~ Mark Twain

    "Loyalty to country "ALWAYS". Loyalty to government, when it deserves it."
  • kathua

    कठुआ, उन्नाव, रोहतास और जाने कितने ..

    रहो चुपचाप तुम।

    और ढूंढ लो उस बच्ची का मज़हब,

    जिसके जिस्म को हैवानों ने नोचा ऐसे,

    जैसे गिद्ध नोचे लोथड़ा गोश का,

    जिस बच्ची को अपने जिस्‍म की ठीक ठीक मालूमात भी ना होगी अभी,

    उसे बनाया शिकार हवस कि ज़ात का।

     

    रहो चुपचाप तुम।

    क्यूँ की उस बच्ची की किलकारियाँ तुम्हारे घर मे नही गूंजी थी,

    वो किसी और की बेटी थी,

    वो तुम्हें पापा कहके नहीं बुलाती थी,

    वो तुमको छोटी बहन की तरह नहीं सताती थी।

     

    रहो चुपचाप तुम।

    वहाँ भगवान भी तो था,

    उसने भी उसको सिसकते देखा था

    उसने भी उन बलात्कारियों को मासूम पर चढ़ते देखा था,

    वो भी चुप हैं और तुम भी रहो।

     

    रहो चुपचाप तुम।

    ज़रा सोचो के तुम तब क्या बोलोगे,

    सलामती की दुआ हमेशा है फिर भी अगर तुम्हारी बेटी के साथ ऐसा हो जायेगा 

    सोचो तुम क्या ही बोलोगे,

    जब अपनी खुद की बच्ची पे कुछ ऐसा ही अज़ाब आएगा।

     

    रहो चुपचाप तुम।

    तुम मर चुके हो

    और तुम्हारी रूहों की डोर उस जादूगर के हाथ मे है,

    जिसने तुम्हारे ज़मीर को खोखला कर दिया हैं,

    इसलिए तुम इन बलात्कारियों को बचाने के लिए तिरंगा लिए दौड़े जा रहे हो,

    तुम चलती लाशें हो,

    तुम्हारी इस ज़िंदा दुनिया को कोई ज़रूरत नहीं हैं,

    जैसे सड़ने के बाद लाश बदबू फैलाती है,

    वैसे ही तुम्हारे होने से मुल्क मे फैल रही है,

    तुम्हारा दफन हो जाना ही अच्छा,

     

    रहो चुपचाप तुम।

     

    ।। बिलाल हसन ।। 

    Bilal Hasan
    Connect @

    Bilal Hasan

    Excels in playwrighting, direction & poetry. He hails from Lucknow & is working in entertainment industry in Mumbai.
    Bilal Hasan
    Connect @