• ~ Mark Twain

    ~ Mark Twain

    "Loyalty to country ALWAYS. Loyalty to government, when it deserves it."
  • IMG-20160522-WA0007

    जल हल यात्रा डायरी (भाग 1) – स्वराज अभियान

    सूखा राहत याचिका पर सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले के प्रति जागरूकता एवं उसके सही क्रियान्वयन की निगरानी के लिए स्वराज अभियान ने एक नई पहल की है – “जल हल पदयात्रा”। यह पदयात्रा देश में सूखा के दो सबसे बड़े केंद्र मराठवाड़ा और बुंदेलखंड के गाँवों में 21 मई से 31 मई तक होगी। पदयात्रा मराठवाड़ा के लातूर जिले से प्रारम्भ हो कर उस्मानाबाद, बीड जिलों से गुजरेगी। 26 मई को भोपाल में एक जनसभा के लिए आंशिक ठहराव के बाद पुनः टीकमगढ़ से बुंदेलखंड की पदयात्रा शुरू होगी। टीकमगढ़, छतरपुर से होते हुए महोबा में 31 मई को यात्रा का समापन होगा। जय किसान आन्दोलन के राष्ट्रीय संयोजक और स्वराज अभियान संस्थापक सदस्य योगेंद्र यादव इस पूरी अवधि के दौरान पदयात्रा के साथ होंगे। मेधा पाटकर, एकता परिषद के पी.वी. राजगोपाल, एनएपीएम के डॉ सुनीलम, जल बिरादरी के राजेंद्र सिंह और अन्य सामजिक कार्यकर्ता विभिन्न स्थानों पर यात्रा में सम्मिलित होंगे।

    रोज की अपनी इस यात्रा के अनुभव योगेन्द्र यादव एक वीडियो ब्लॉग के जरिए साझा कर रहे हैं। ग्रामीण भारत की सच्चाई से रूबरू कराती इस वीडियो ब्लॉग श्रृंखला को एक्सप्रेस टूडे अपने पाठकों को उपलब्ध करा रहा है। तो पेश है वीडियो ब्लॉग का पहला भाग जिसमें योगेन्द्र यादव मिलवा रहे हैं लातूर जिला के सोनवती गाँव के उस शख्स से जिसकी एक चिठ्ठी की प्रेरणा से सूखा प्रभावित लोगों को न्याय दिलाने के लिए स्वराज अभियान ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया।