• ~ Mark Twain

    ~ Mark Twain

    "Loyalty to country ALWAYS. Loyalty to government, when it deserves it."
  • IMG-20150909-WA0009

    चित्रकारी..

    कल एक चित्र बनाया
    एक चिड़िया का चित्र
    उसके पंखो मे
    सारे सितारे जड़ दिए 
    उसके पैरो में
    सुखी धूप मल दी 
    उसकी बड़ी काली आँखों मे
    एक पूरी रैना भर दी
    उसके हाथो मे
    ठंडी ओस की बूँदे भर दी 
    उसकी पलके थी मानो
    रेशमी धागे,
    मेरी आँखों से फिसल रहे थे 
    और फिर वो चिड़िया उडी
    उसके पंखो ने आसमान को काटा
    आसमान का एक टुकड़ा
    मैंने अपनी ऊपर वाली जेब मे रख लिया  
    फिर वो चिड़िया ओझल हो गयी 
    ना जाने कहा गयी..
    मैंने खूब ढूँढा पर न मिली
    वो तब गयी जब
    मैं कोई और रंग ढूंढ रहा था
    उसमे भरने के लिए
    पर इतने में वो चली गयी
    उसे ढूंढने में मेरी ऊपर वाली जेब से 
    वो आसमान का टुकड़ा
    बारिश मे भीग कर पिघल गया

    ऐसा लगा मानो हड्डिया पिघल गयी
    आसमान के टुकड़े पाँव मे खूब लगे
    सतरंगी खून भी बहा
    पर वो मिल गयी उसी तस्वीर में,
    वो सयानी चाहती थी मैं उसे ढूँढू
    लेकिन मैं पागल रंगो में खोज रहा था उसे
    फिर वो मेरे कंधो पे बैठी और चहकी 
    मानो ठिठुरन भरी ठंडी में
    किसी ने खिड़की खोल दी हो
    और कच्ची धुप अंदर आ रही हो
    कुछ ऐसी ही गरमाहट थी
    जैसे पान मे किसी
    अच्छे किस्म का कलाकंद पड़ा हो
    कुछ ऐसी ही घुली
    उसकी चहचाहट मेरे कानो में
    वो चिड़िया तब से मेरे पास है
    रोज चहकती है.. और चहके भी क्यों ना 
    चित्रकारी तो मेरी है।

    (Satyasheel Kaushik is based in Delhi. Likes writing short stories & poems)