• ~ Mark Twain

    ~ Mark Twain

    "Loyalty to country "ALWAYS". Loyalty to government, when it deserves it."
  • Cinema

    बिलाल हसन की शॉर्ट फिल्म “अम्मा रे” की पहली स्क्रीनिंग

    ammares1

    बिलाल हसन की शॉर्ट फिल्म “अम्मा रे” की पहली स्क्रीनिंग हुई। अब अगली स्क्रीनिंग लखनऊ में है पर मोहम्मदी खीरी में हुई पहली स्क्रीनिंग कई वजहों से यादगार और महत्तवपूर्ण रहेगी। पहला, स्क्रीनिंग उस शहर ...

    Read More »

    बिलाल हसन की शॉर्ट फिल्म “अम्मा रे” का टीज़र रिलीज़

    ammare

    बिलाल हसन की शार्ट फिल्म “अम्मा रे” का पोस्टर और टीज़र रिलीज़ हो चुका है। टीज़र में आपने देखा होगा कि यह फिल्म ड्रग्स की लत से जूझ रहे इंसान के इर्द गिर्द है। यह ...

    Read More »

    “आवारा शायर” हुए बिलाल ..

    bilal

    बिलाल हसन ने तीन साल पहले लखनऊ में अपनी ही लिखी एक नाटक “आखिरी नज़्म” का मंचन किया था। एक्सप्रेस टुडे उस नाटक का मीडिया पार्टनर था और मंच पर हम यह देख रहे थे ...

    Read More »

    नील माधब पांडा की अगली फिल्म “कड़वी हवा” और संजय मिश्रा की अदाकारी।

    kh

    फिल्म “आई एम कलाम” के लिए राष्ट्रीय पुरुष्कार सम्मानित निर्देशक नील माधब पांडा अपनी आने वाली फिल्म “कड़वी हवा” में जलवायु परिवर्तन के मुद्दे को उठा रहे हैं। जलवायु परिवर्तन जो कि इस वक्त पूरी ...

    Read More »

    Sahir Ludhianvi – a Romantic Rebel..!!

    Sahir

    Right from the era of Aristotle to these days there have been numerous attempts to define Poetry. Every Thinker, Philosopher & Writer has had his say but Poetry could never be defined to precision. This ultimate art form has always ...

    Read More »

    अस्मिता विंटर थिएटर फेस्टिवल 2016

    12375042_1238387566177162_8797402606730604157_o

    इस वीकेंड से अस्मिता विंटर थिएटर फेस्टिवल 2016 शुरू होने वाला है। इस फेस्टिवल के अतर्गत अरविन्द गौर निर्देशित 6 नाटकों का मंचन किया जायेगा।   09 जनवरी ~ “इश्मतनामा” 06:30pm, लोक कला मंच, लोधी ...

    Read More »

    मील का पत्थर नहीं, मील का पहाड़ है “माँझी : दी माउंटेन मैन”

    Manjhi

    हेतना ताक़त कहाँ से लाते हैं?  इ परेम है… पहले जोरू से था, अब पहाड़ से है   माँझी देखी और फिल्म के ऊपर कुछ लोगों से भी बात की। लोग कहते हैं, काफ़ी नुक़सान ...

    Read More »

    मार्गरीटा विद अ स्ट्रा के बहाने एक दर्शक के रूप में मेरी सिनेमा यात्रा

    margritastraw

    1980 में शान फिल्म का अब्दुल औऱ वो गाना आते जाते हुए मैं सबपे नज़र रखता हूं नाम अब्दुल है मेरा क्या, सबकी ख़बर रखता हूं। अब्दुल हिन्दी सिनेमा का मेरा पहला हीरो बन गया ...

    Read More »