• ~ Mark Twain

    ~ Mark Twain

    "Loyalty to country "ALWAYS". Loyalty to government, when it deserves it."
  • Author Archives: Nietin Sharma

    गज़ल अच्छी कहाँ लिख पाता हूँ मैं..

    FB_IMG_1458460367884

    साये अफ़सोस के छाए या बदली हो मसर्रत की,न उन पर भरोसा है न इनमें ही पनाह पाता हूँ मैं। कभी कहते थे वह हँसकर कि दिलोजाँ सब तुम्हारा है,मज़ाक़ उन पर था या मुझ ...

    Read More »

    आज़ादी हम लाएँगे …

    images (17)

    एक व्यापारी है जो हज़ारों करोड़ लूटकर पार्टी करता है वह हमारे ‘उच्च सदन’ का सम्मानित सदस्य है। किसान कुछ हज़ार रुपयों के लिए अपनी जान लेने को मजबूर है और हमें देश में एक ...

    Read More »

    अब और नहीं..

    Capture

    अब बसऔर नहींगाली काफ़ब्ती काइस नीच कमीनीख़ब्ती काअब और चलेगादौर नहीं भाग चलोछिप जाआे कहींमुँह को ढँक लोनज़रें झुका लोसर नीचे कर चलोधीमे बोलोख़त्म करो ये दौर यहींनहीं अब और नहीं भागो मत भिड़ोसोचो मत ...

    Read More »

    मुस्कान ..

    smiles

    कभी यूँ ही बेवजहकभी बहुत से मायनी छिपाए हुएकभी आँखों ही आँखों मेंसब कुछ कह जाने वाली कभी दर्द को छिपाने में थके चेहरे परआते आते रह जाने वाली कभी बर्दाश्त की इंतहा पर होठों में ...

    Read More »

    निदा फ़ाज़ली को समर्पित …

    nf

    हम रात दिन तड़पा किए और क़ज़ा माँगा किएरात-ओ-दिन चारों पहर वह भी बिला नागा किएपर तुम गए और बेतरह हम पर ये सच शाया हुआज़िंदगी क्या मौत को भी बस नगीने चाहिए … परवाह ...

    Read More »

    याद है ..

    4860278157_71f1def753_b

    बारिश की बूँदों की पहली छुअन वोमाटी की सोंधी महक का फ़सानायाद है …रंगीन काग़ज़ की नावें बनानाबारिश के पानी में उनको तिरानायाद है …छुट्टी में बस्ता भिगाते हुए झमाझम पानी में सायकल चलानायाद है ...

    Read More »

    पर भगत …

    singh

    बारिश में मिट्टी वैसी ही महकती हैशाेलाें से आग वैसी ही  दहकती हैबाग़ाें में काेयल वैसे ही कूकती हैमाँ दुआ पढ़ के आज भी वैसे ही फूँकती है पर भगत अब बच्चे तुम जैसे नहीं ...

    Read More »

    एक नया विकल्प दे …

    naya

    कल नहीं आजअब नहीं अभीचल नहीं दाैड़लाचारी की राह छाेड़स्वर नहीं विचार उठामत भटक लुटा पिटासूर्य की आग कायुद्ध के राग काअंतिम आह्वान करनिर्णायक संघर्ष मेंपराक्रम का ध्यान करमृत्यु का भय नहींहै तेरी विजय यहींपापियाें ...

    Read More »

    ना हो तो ना सही …

    POEM

    चाय वाला नहीं है तो ना सही न्याय वाला है क्या?चलेगा … करोड़ों के सूट ना पहनता होतो ना सही आमदनी में दस रुपये बढ़ाएगा क्या?चलेगा … मंगल यान ना चलाए तो ना सही सर ...

    Read More »