• ~ Mark Twain

    ~ Mark Twain

    "Loyalty to country "ALWAYS". Loyalty to government, when it deserves it."
  • Author Archives: Express Your Thoughts

    …अब कोई गुलशन न उजडे, अब वतन आज़ाद है !!

    rape-molest

    आज अचानक इस गाने की कुछ लाइनें जुबां पर आ गईं , काम करते करते गुन-गुनाना मेरी आदत है, विरासत में जो मिली है माँ से। एक लाइन भी नहीं गायी थी की शब्दों पर ...

    Read More »

    क्या नीतीश कुमार ही सोनम गुप्ता हैं ?

    Screenshot_2017-07-28-12-05-37-679

    बिहार में राजनीति ऐसे गरमायी है जैसे बेमौसम बरसात या बिन बुलाए मेहमान ! इस देश ने सियासी उठा पटक तो बहुत देखे हैं लेकिन चुनाव की घबराहट बहुत कम ही देखा है जो आज ...

    Read More »

    नववर्ष का प्रथम दिवस

    img-20170104-wa0000

    नए साल का सूरज  जब शिशिर के कोहरे को चीरते हुए,क्षितिज पर बिखेर रहा थालालिमा का फैलाव, जैसे-काग़ज़ी कैनवास पर रंग फैला रहा हो कोई;मैं नींद की आग़ोश मेंदेख रहा था- नूतन वर्ष का स्वप्न। ...

    Read More »

    लगा दो संसद पर ताला !

    screenshot_2016-12-23-16-02-38-842

    सातवीं कक्षा से पढ़ते आ रहा था की जनता के प्रतिनिधि होते हैं जो जनता के लिए लोकसभा और राज्यसभा नामक दरबार में बैठ के जनता की परेशानियों का हल निकालते हैं। लोकसभा को तो ‘पीपल्स ...

    Read More »

    जाग जाओ, तैयार हो जाओ।

    Logo_Featured

    आज हम ऐसे दौर से गुजर रहे हैं जब देश के कई बड़े नाम वाले चेहरे या बड़े काम वाले चेहरे दुनिया को अलविदा कह रहें हैं। कल अनुपम मिश्र गए उनसे पहले दिलीप पादगाओंकर, ...

    Read More »

    स्वराज इण्डिया करेगा वैकल्पिक राजनिती को स्थापित!

    img_5691

    2 अक्टूबर को हमने एक नयी शुरुआत की और देश की जनता को फिर से विश्वास दिलाया की क्रांति की वो लॉ भुझी नहीं है| हम देश की अन्दर की चिंगारी को पहचानते हैं और ...

    Read More »

    दिनकर का हिमालय

    Screenshot_2016-04-10-17-17-56-113

    दिनकर की कविता ‘हिमालय’। सन् 1933 में लिखित यह कविता ‘रेणुका’ काव्य-संग्रह का हिस्सा है। ‘मेरे नगपति, मेरे विशाल’! “मेरे भारत के दिव्य भाल!मेरे नगपति! मेरे विशाल!…ओ, मौन, तपस्या लीन यति! पल भर को तो ...

    Read More »