• ~ Mark Twain

    ~ Mark Twain

    "Loyalty to country ALWAYS. Loyalty to government, when it deserves it."
  • Author Archives: Bilal Hasan

    Excels in playwrighting, direction & poetry. He hails from Lucknow & is working in entertainment industry in Mumbai.

    गोरखपुर त्रासदी और राजनीति : शर्मनाक

    up

    उन मासूमो की किलकारी को सुनने माँ तरसती हैजहाँ गयी है ज़िन्दगी मांगने वहां मौत बरसती है मदरसों में लगा के कैमरे साबित कर दिया तुमनेमुसलमाओं के लिए दिल में तुम्हारे आग जलती है  लगे ...

    Read More »

    बिलाल की कलम से –

    EYT-Small

    मुस्तकबिल क्या होगा तुम्हारा इस मुल्क में? तुम्ही सोचो पटाखे फोड़ के पाकिस्तान की जीत का ऐलान करते हो। हिंदुस्तान के मुसलमानों अपने गिरेबान में झाँक के देखो, क्या तुम सच में गद्दार हो। मुस्लमान होना बहोत ...

    Read More »

    मेरी मरकरी …

    Capture

    छज्जे से सटा खम्बा है लगा सब नींद मेरी ये लूट चला। जलने है लगी ये नयी मरकरी। कमरे को मेरे उजाले से भरा तुम उभर गयी इसमें यहाँ वहां पन्नी ओढे ये दुल्हन सी ...

    Read More »

    मेरी माँ

    BILAL

    कितनी रातें तू जागी हैकितने दिन रात रोई है ,तकलीफों को अपनी माँमुस्कराहट में संजोयी है , कितने जत्नों के बाद जन्मातुमने मुझको ऐ अम्मामेरी हर आह पे ऐ माँतू रो आँचल भिगोई है , ...

    Read More »

    ओ मेरे वतन …

    210094_488764334485140_2140957604_o

    ओ मेरे वतन मेरे खुश-चमन तू मेरा अदब तू मेरी नज़म तू मेरा लहू तुझको है नमन ओ मेरे वतन हम चिराग हैं अपने देश के हम तो फूल हैं तेरे खेत के तेरी सीचन ...

    Read More »

    फांसी का फन्दा

    Farmer

    विरोध और आत्महत्या का  संबंध पुराना है हमारे देश का।    जब भगत, राजगुरु, सुखदेव, अशफ़ाक़ ने  अपनाया था फांसी का फन्दा  और हस्ते हस्ते गले लगाया था मृत्यु को   वो भी विरोध था  और ...

    Read More »

    In a Sunshine Day

    SunshineDay

    I want to see you in a sunshine day On the bank of a river River flowing with your thoughts And the flowers of love Kissing each other 100 species of colorful birds Watching you ...

    Read More »

    सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोसिताँ हमारा – मुहम्मद इकबाल

    iqbal

    सितारों से आगे जहाँ और भी हैअभी इश्क़ के इम्तिहान और भी है ये नज़्म मुहम्मद इक़बाल के कलम से ही निकली है जो हर मुहब्बत करने वाले के लिए आज भी नयी है। 09 ...

    Read More »

    ललक

    Photo Courtesy - walljpeg.com

    ललक हो जो तो पालेगा  मुकद्दर को हरा लेगा अँगुलियों में दबोच धरती समन्दर को तू पालेगा जो लड़ने की ललक होगी जो उड़ने की ललक होगी फ़लक को घर बना लेगा    ललक जो ...

    Read More »