• ~ Mark Twain

    ~ Mark Twain

    "Loyalty to country "ALWAYS". Loyalty to government, when it deserves it."
  • Capture

    अब और नहीं..

    अब बस
    और नहीं
    गाली का
    फ़ब्ती का
    इस नीच कमीनी
    ख़ब्ती का
    अब और चलेगा
    दौर नहीं

    भाग चलो
    छिप जाआे कहीं
    मुँह को ढँक लो
    नज़रें झुका लो
    सर नीचे कर चलो
    धीमे बोलो
    ख़त्म करो ये दौर यहीं
    नहीं अब और नहीं

    भागो मत भिड़ो
    सोचो मत लड़ो
    लड़ने सेे मत बचो
    नए मुहावरे रचो
    हाथ ही हथियार हैं
    ये शेर नहीं सियार हैं
    सारे साथ साथ कहो
    नहीं अब और नहीं

    वार पर वार करो
    गहरे प्रहार करो
    साँस जब तक साथ है
    युद्ध की बात है
    पीछे न हटना है
    कमर कस डटना है
    कहते ही रहना है
    नहीं अब और नहीं.

    फौजी सरहद पर लड़ते हैं
    हमको हर हद तक लड़ना होगा
    घर पर, सड़क पर
    दफ़्तर में मॉल में
    बाज़ार में, खेत में
    पहाड़ों पर, रेत में
    साफ़ कहो
    आज कहो
    चलेगा अब और नहीं
    नीचता का ये दौर नहीं
    किसी भी क़ीमत पर और नहीं..